दिल की बात - माँ पर कविता - दिल की बात

Friday, 30 August 2019

दिल की बात - माँ पर कविता

बेसन की सोंधी रोटी पर
खट्टी चटनी जैसी माँ
याद आती है चौका-बासन
चिमटा फुकनी जैसी माँ
बाँस की खुरी खाट के ऊपर

हर आहट पर कान धरे
आधी सोई आधी जागी
थकी दोपहरी जैसी माँ
चिड़ियों के चहकार में गूंजे
राधा-मोहन अली-अली
मुर्गे की आवाज़ से खुलती
घर की कुंडी जैसी माँ
बिवी, बेटी, बहन, पड़ोसन
थोड़ी थोड़ी सी सब में
दिन भर इक रस्सी के ऊपर
चलती नटनी जैसी माँ
फटे पुराने इक एल्बम में
चंचल लड़की जैसी माँ


ये कविता आपको कैसी लगी  हमें whats app  करके जरूर बताये
इसी तरह की जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमारे  Whats App  ग्रुप  से जुड़े -
 Whatsapp Group

दिल की बात डॉट कॉम से आने के आपका धन्यवाद।   

No comments:

Post a Comment

About Me

बेहतर से बेहतर कि तलाश करो,
मिल जाये नदी तो समंदर कि तलाश करो,
टूट जाता है शीशा पत्थर कि चोट से,
टूट जाये पत्थर ऐसा शीशा तलाश करो।